Motorola One Fusion+ का रिव्यू

Motorola One Fusion+ को हाल ही में भारत में लॉन्च किया गया है, जिसकी कीमत 16,999 रुपये है। यह बाज़ार के सबसे अधिक प्रतिस्पर्धी वाले सेगमेंट में कदम रखता है। मोटोरोला पिछले कुछ समय से एक के बाद एक स्मार्टफोन लॉन्च कर रही है। पहले Motorola Edge+, फिर Motorola G8 Power Lite और अब कंपनी ने इस नए स्मार्टफोन को लॉन्च किया है। मार्केट में बढ़ रही प्रतिस्पर्धा को देखते हुए कंपनी ने वन फ्यूज़न+ के डिज़ाइन और सॉफ्टवेयर में थोड़े बदलाव किए हैं। क्या यह बदलाव कंपनी को इस सेगमेंट में अपनी पकड़ बनाने में मदद करेंगे? हमने यह देखने के लिए Motorola Fusion+ को टेस्ट किया है और यह है इसका रिव्यू।
 

Motorola One Fusion+ design

मोटोरोला वन फ्यूज़न+ सब-20,000 रुपये रेंज में आने वाले हाल के कुछ स्मार्टफोन्स से थोड़ा अलग है। इसका डिस्प्ले साइज़ 6.5 इंच है और इसे एक हाथ से इस्तेमाल करना आसान नहीं है। मुझे जो पसंद आया, वह यह है कि फ्रंट कैमरा के लिए किसी प्रकार का नॉच या होल-पंच नहीं दिया गया है। सेल्फी कैमरा एक पॉप-अप मॉड्यूल में फिट है, जो अब इस कीमत के आसपास आने वाले स्मार्टफोन में बहुत कम देखने को मिलता है।

मुझे मोटोरोला वन फ्यूज़न+ थोड़ा मोटा लगा। इसकी मोटाई 9.6 मिलीमीटर है और इसका वज़न भी थोड़ा ज्यादा यानी 210 ग्राम है। इसे हाथ में पकड़े समय आप निश्चित रूप से इसका भार महसूस करेंगे। शुक्र है कि स्मार्टफोन के किनारे घुमावदार हैं, जो इसे कुछ हद तक लंबे समय तक पकड़े जाने पर आरामदायक बनाते हैं। मोटोरोला ने सभी बटन दायीं ओर फिट किए हैं और बायीं ओर को बिल्कुल खाली रखा है। पावर और वॉल्यूम बटन तक पहुंचना आसान है और इसमें एक चौथा बटन भी है, जो Google Assistant बटन है।
 

बैक में क्वाड रियर कैमरा सेटअप दिया गया है, जिसके बगल में फ्लैश शामिल है। इसमें फिंगरप्रिंट स्कैनर पीछे दिया गया है, जिस तक पहुंचना आसान है और इस पर मोटोरोला का लोकप्रिय बैटविंग लोगो बनाया गया है। अब अधिकतम ब्रांड अपने फोन में बैक के बजाय पावर बटन में फिंगरप्रिंट स्कैनर देते हैं, फिर भी मुझे बैक में फिंगरप्रिंट सेंसर का होना पसंद है, क्योंकि इसे उपयोग करना सुविधाजनक है।

मोटोरोला ने इसमें 5,000mAh बैटरी दी है, जो इस फोन के भारी और मोटे होने का सबसे बड़ा कारण भी है। One Fusion+ फास्ट चार्जिंग सपोर्ट के साथ आता है और इसके बॉक्स में कंपनी 18W टर्बोचार्जर भी देती है। स्मार्टफोन में नीचे की ओर यूएसबी टाइप-सी पोर्ट और स्पीकर के साथ 3.5 एमएम हेडफोन जैक दिया गया है। यह सिंगल स्पीकर छोटे कमरे के हिसाब से काफी अच्छा है।
 

Motorola One Fusion+ specifications and software

मोटोरोला वन फ्यूज़न + भारत में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 730जी प्रोसेसर के साथ आता है, जबकि अंतरराष्ट्रीय मॉडल थोड़ा कम शक्तिशाली स्नैपड्रैगन 730 चिपसेट से लैस आता है। मोटोरोला वन फ्यूज़न+ केवल 6 जीबी रैम और 128 जीबी स्टोरेज वेरिएंट में लॉन्च किया गया है। मोटोरोला ने इसकी कीमत 16,999 रुपये रखी है। हां, Motorola One Fusion+ के डिस्प्ले में हाई रिफ्रेश रेट नहीं है, जैसा कि हम आजकल इस कीमत के आसपास आने वाले अन्य स्मार्टफोन में देख रहे हैं, लेकिन यह वास्तव में एक डील-ब्रेकर साबित नहीं होता है। फोन को सामने से देखने में और चलाने में मुझे इस फीचर के न होने का फर्क महसूस नहीं हुआ।
 

motorola

डिस्प्ले वाकई में क्रिस्प है। यह एक आईपीएस एलसीडी पैनल है, जो HDR10 सपोर्ट के साथ आता है और इसमें से चुनने के लिए तीन कलर मोड हैं। इसमें किसी प्रकार का प्रोटेक्टिव ग्लास नहीं दिया गया है, लेकिन मोटोरोला कहती है कि उसने इसमें एंटी-फिंगरप्रिंट और एंटी-स्क्रैच कोटिंग दी है। फिर भी हम आपको सावधान रहने की सलाह देंगे।

Motorola One Fusion+ को दो रंगों में बेचता है, ट्वाइलाइट ब्लू और मूनलाइट व्हाइट। हमारे पास इसका ब्लू वेरिएंट था, मैं व्यक्तिगत रूप से ऑल-व्हाइट विकल्प चुनूंगा क्योंकि यह बाज़ार में उपलब्ध बाकी फोन से थोड़ा अलग है। वन फ्यूज़न+ में डुअल 4G VoLTE, ब्लूटूथ 5 और वाई-फाई 802.11एसी सपोर्ट है। स्टोरेज विस्तार योग्य है लेकिन एक हाइब्रिड डुअल-सिम स्लॉट है।

मोटोरोला वन फ्यूज़न+ के बारे में मुझे जो सबसे ज्यादा पसंद आया, वह यह है कि यह कुछ उपयोगी अतिरिक्त फीचर्स के साथ लगभग स्टॉक महसूस होने वाले एंड्रॉयड 10 ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलाता है। रिव्यू लिखने के समय तक यह अप्रैल सिक्योरिटी पैच पर चल रहा था। Motorola One Fusion+ एंड्रॉयड वन प्रोग्राम का हिस्सा नहीं है और मैं केवल आशा कर सकता हूं कि कंपनी इसे आने वाले कुछ वर्षों के लिए समय पर सॉफ्टवेयर अपडेट दे।
 

motorola

Moto Actions गेस्चर्स, जैसे कि फ्लैश को चालू करने के लिए ‘डबल-चॉप’ और कैमरा खोलने के लिए एक ‘डबल-क्रैंक’ आदि इसमें मौजूद हैं। इस फोन में मोटो डिस्प्ले फीचर भी है जो स्क्रीन को देखते समय फोन को स्टैंडबाय में जाने से रोकता है। पीक डिस्प्ले आपको स्क्रीन लॉक होने के दौरान भी नोटिफिकेशन से इंटरेक्ट करने का विकल्प देता है। यह फीचर काफी हद तक फोन में नोटिफिकेशन एलईडी न होने की भरपाई करता है।

Android 10 पर आधारित यह My UX स्किन काफी हद तक स्टॉक यूआई है, लेकिन अच्छी बात यह है कि आपको इसमें आइकॉन, सिस्टम फॉन्ट, आइकॉन के रंग और लेआउट आदि को बदलने का विकल्प मिलता है। मोटोरोला वन फ्यूज़न+ में कुछ Google ऐप्स पहले से इंस्टॉल आते हैं। इस फोन को रिव्यू करने के दौरान मुझे इस डिवाइस में एक भी स्पैमी नोटिफिकेशन नहीं मिली। अन्य स्मार्टफोन कंपनी ध्यान दें।
 

Motorola One Fusion+ performance

मोटोरोला वन फ्यूज़न+ का रियर-माउंटेड फिंगरप्रिंट स्कैनर स्मार्टफोन को तुरंत अनलॉक करता है। क्योंकि Google ने स्टॉक Android 10 से फेस अनलॉक फीचर को हटा दिया था, इसलिए मोटोरोला वन फ्यूज़न+ में यह फीचर नहीं है। हमें इसकी कमी ज्यादा महसूस नहीं हुई, क्योंकि वैसे भी पॉप-अप कैमरा ऊपर आने में थोड़ा धीमा है।

Qualcomm Snapdragon 730G चिपसेट इस फोन को Poco X2, Realme 6 Pro और Redmi Note 9 Pro Max के खिलाफ खड़ा करता है। मैंने इसे इस्तेमाल करते समय किसी तरह के लैग को महसूस नहीं किया और स्मार्टफोन ने आराम से मल्टीटास्क किया। दिन-प्रतिदिन के कामों के साथ-साथ गेमिंग को संभालने के लिए भी यह काफी अच्छा है।

Motorola One Fusion+ गेमिंग को भी आराम से संभाल सकता है। PUBG Mobile HD में सेट किए गए ग्राफिक्स और हाई-प्रीसेट पर डिफॉल्ट रूप से चलता है। मैंने 20 मिनट के लिए बिना किसी समस्या के इन सेटिंग्स में गेम खेला, जिसके बाद स्मार्टफोन न के बराबर गर्म हुआ। इतना खेलने के बाद फोन की बैटरी में 5 प्रतिशत की गिरावट आई, जो स्वीकार्य है।
 

motorola

मोटोरोला वन फ्यूज़न+ एक चार्ज में आसानी से डेढ़ दिन तक चला। यह हमारे एचडी वीडियो लूप टेस्ट में 15 घंटे, 45 मिनट तक चलने में कामयाब रहा। 18W टर्बोचार्जर के जरिए चार्ज करना अपेक्षाकृत तेज़ है, लेकिन हमने प्रतियोगियों में इससे तेज़ चार्जिंग देखी है। फोन 30 मिनट में 32 प्रतिशत और एक घंटे में 60 प्रतिशत चार्ज हो गया। इसे 100 प्रतिशत करने में दो घंटे से अधिक समय लगा।
 

Motorola One Fusion+ cameras

मोटोरोला ने वन फ्यूज़न+ में क्वाड रियर कैमरा सेटअप दिया है। इसमें एफ/1.8 अपर्चर वाला 64-मेगापिक्सल प्राइमरी सेंसर, एफ/2.2 अपर्चर वाला 8-मेगापिक्सल अल्ट्रा-वाइड-एंगल लेंस, एफ/2.4 अपर्चर वाला 5-मेगापिक्सल का मैक्रो लेंस और 2-मेगापिक्सल का गहराई सेंसर शामिल है। फ्रंट में एक 16-मेगापिक्सल का सेल्फी शूटर है। मैंने पाया कि कैमरा ऐप बहुत ही सिंपल और उपयोग में आसान है। इसका आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस फीचर भी अच्छे से काम करता है। यदि आप कम रोशनी में शूटिंग कर रहे हैं तो यह आपको नाइट मोड का सुझाव देगा और यदि आप किसी ऑब्जेक्ट की तस्वीर करीब से खींच रहे हैं तो यह आपको मैक्रो कैमरा का सुझाव देता है।
 

motorola

मैंने पाया कि Motorola Fusion+ फोकस सेट करने में तेज़ था। दिन के उजाले में, इसने पर्याप्त डिटेल के साथ अच्छी तस्वीरें खींची। यहां तक कि दूर के सब्जेक्ट को भी इसने अच्छे से कैप्चर किया। फोन उजाले में अच्छे शॉट्स लेने के लिए एचडीआर को अपने आप सक्षम कर देता है।
 

motorola

 

motorola

अल्ट्रा-वाइड-एंगल कैमरा एक काफी बड़ा एरिया कैप्चर कर सकता है, लेकिन इसमें प्राइमरी कैमरे की तुलना में थोड़ा अलग कलर टोन आता है। इससे ली गई तस्वीरों में प्राइमरी कैमरा की तरह डिटेल्स नहीं आती है और आपको ज़ूम-इन करने पर वाटर कलर जैसा प्रभाव दिखाई देगा। मैंने पाया कि अल्ट्रा-वाइड-एंगल कैमरा केवल लैंडस्केप को कैप्चर करने के लिए अच्छा है।
 

motorola

यह कैमरा क्लोज-अप काफी अच्छा निकलता है। प्राइमरी कैमरा बैकग्राउंड में प्राकृतिक डेप्थ इफेक्ट जोड़ता है, जो अच्छा दिखता है। मैक्रो कैमरा आपको किसी ऑब्जेक्ट को बहुत करीब से कैप्चर करने देता है, लेकिन प्राइमरी कैमरे की तरह डिटेल नहीं देता है।
 

motorola

पोर्ट्रेट मोड आपको शॉट लेने से पहले ब्लर के स्तर को सेट करने का विकल्प देता है। ऐज डिटेक्शन अच्छा है और यह बैकग्राउंड ठीक से धुंधला करता है।
 

motorola

 

motorola

लो-लाइट कैमरा परफॉर्मेंस औसत है और मोटोरोला वन फ्यूज़न+ कम रौशनी में डिटेल छोड़ देता है। तस्वीरें ज़ूम-इन करने पर थोड़ा दानेदार दिखाई देता है। नाइट मोड पर स्विच करने से इनमें से अधिकांश समस्याएं तुरंत खत्म हो जाती हैं। हालांकि नाइट मोड के साथ मुझे फोन को थोड़ी देर के लिए स्थिर रखना पड़ा, लेकिन नाइट मोड के साथ तस्वीरें बहुत ब्राइट आई और साथ ही साथ डिटेल्स में भी सुधार आया।
 

motorola

 

motorola

Motorola One Fusion+ के साथ ली गई सेल्फी में अच्छी डिटेल थी। आप सेल्फी के लिए पोर्ट्रेट मोड को भी सक्षम कर सकते हैं और इसका ऐज डिटेक्शन अच्छा था। कम रोशनी में क्वालिटी खराब हो जाती है, लेकिन सेल्फी कैमरा भी नाइट मोड को सपोर्ट करता है, जो कुछ हद तक तस्वीरों को ठीक करने में मदद करता है।
 

Verdict

पिछले कुछ समय की बात करें तो, मैंने कई बजट स्मार्टफोन को रिव्यू किया है, लेकिन सही मायने में मुझे सबसे ज्यादा आनंद Motorola One Fusion+ को रिव्यू करने में आया है। इसकी मुख्य हाइलाइट इसका क्लीन, ब्लोटवेयर-मुक्त लगभग-स्टॉक एंड्रॉयड सॉफ्टवेयर है, जो बेहतरीन यूज़र अनुभव देता है। Moto Actions इस अनुभव में तड़के का काम करते हैं और अनुभव को और बढ़िया बनाते हैं। डिस्प्ले में हाई रिफ्रेश रेट का अभाव है, लेकिन यह डिस्प्ले ब्राइट है और इसमें अच्छे व्यूइंग एंगल हैं। इसका तेज़ स्पीकर वीडियो देखने के अनुभव को बढ़ाता है।

मैं उम्मीद करता हूं कि मोटोरोला इस फोन के सॉफ्टवेयर को प्रतिस्पर्धा में बढ़त बनाने के लिए समय के साथ अपडेट करती रहेगी। Motorola ने One Fusion+ के स्पेसिफिकेशंस के हिसाब से कीमत को सही जगह सेट किया है, जिससे मेरे लिए इसकी सलाह देना बहुत आसान हो गया है।


Source link

Devesh Tyagi

Technology Devesh is my dream blog, I share Tech News, Entertainment, Computer Tricks, Earn Money Online, Jobs related articles, Product Reviews, SEO, and Online Earning. I started this blog on 8 June 2019 to share my knowledge of Technology and Internet Marketing.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *